Welcome To राज-राजेश्‍वरी मंदिर

राजा नरेन्‍द्रशाह द्वारा नर्मदा एवं बंजर नदी के संगम के निकट किले का निर्माण कराया गया और सन 1698 ई. के करीब राजधानी रामनगर से हटाकर मण्‍डला में स्‍थानां‍तरित किया गया। यह स्‍थल तीनों ओर से नर्मदा नदी से घिरा हुआ है जो इस किले काे प्राक्रतिक सु‍रक्षा प्रदान करती थी। किले के उत्‍तर की ओर एक खाई खुदवाकर उसमें नर्मदा नदी का जल प्रवाहित कर चारों ओर से सुरक्षित किया गया था। गढ़ा मण्‍डला के इस किला परिसर में राज-राजेश्‍वरी देवी के मंदिर का निर्माण राजा नरेंद्रशाह द्वारा कराया गया है। इस मंदिर में अटठारह भुजाओं वाली दुर्गा देवी की मूर्ति स्‍थापित की गई है जिसे राज-राजेश्‍वरी देवी के नाम से जाना जाता है। किसी शुभ कार्य को प्रारंभ करने के पूर्व श्रद्धालुगण राज-राजेश्‍वरी देवी के मंदिर में आशीर्वाद लेने जाते हैं।